समय कुछ कह रहा है | रविशंकर पांडेय

समय कुछ कह रहा है | रविशंकर पांडेय

आदमी –
अन्याय कब से
सह रहा है
कर गुजरने को
समय कुछ
कह रहा है।

बंद है वह
जंग खाई आलमारी
कैद होकर
रह गई किस्मत हमारी,
लग रहीं बेकार
अब सारी दलीलें
अब तो पानी
सर के ऊपर बह रहा है।

See also  रोशनी के लिए

हो चुकी कितनी
कवायद कदमतालें
हो न पाईं
दिए की वारिस मशालें,
दुधमुहाँ बच्चा
पकड़ता पाँव बरबस
क्यों न उसकी बाँह
कोई गह रहा है।

धूप छनकर
सीकचों से आ रही है
जंगली चिड़िया
प्रभाती गा रही है,
झोपड़ों के बीच
जो तनकर खड़ा था
दुर्ग का वह
आज गुंबद ढह रहा है।

See also  दरवाज़े होंठ हैं तुम्हारे | पंकज चतुर्वेदी