प्रेम के बारे में एक शब्द भी नहीं
प्रेम के बारे में एक शब्द भी नहीं

शहद के बारे में
मैं एक शब्‍द भी नहीं बोलूँगा

वह
जो बहुश्रुत संकलन था
सहस्‍त्र पुष्‍प कोषों में संचित रहस्‍य रस का

जो न पारदर्शी न ठोस न गाढ़ा न द्रव
न जाने कब
एक तर्जनी की पोर से
चखी थी उसकी श्‍यानता
गई नहीं अब भी वह
काकु से तालु से
जीभ के बींचों-बीच से
आँखों की शीतलता में भी वही

See also  प्रेम का अनुपात | हरिओम राजोरिया

प्रेम के बारे में
मैं एक शब्‍द भी नहीं बोलूँगा

Leave a comment

Leave a Reply