मिट्टी के दीप

गुमसुम से बैठ गए
मिट्टी के दीप,
दीप-पर्व
बिजली से साँठ-गाँठ कर रहे।

संपत को याद आए
चाक वाले दिन,
दौड़ ये विकास की
चुभो रही है पिन,
वंध्या सी हो गईं
ये मन की सीपियाँ,
स्वाति बूँद स्वप्न हुई
दर्द ही उभर रहे।

सहसा चौंका दिया
अभावों ने आके,
रात दिन बीत रहे
कर कर के फाके,
हर घड़ी डराते है
भूख के पटाखे,
कहने को जिंदा हैं,
किंतु नित्य मर रहे।

See also  उड़ जाने दो क्रोध | प्रयाग शुक्ला

गूँगा परिवेश हुआ
गाँव हुआ बहरा,
संस्कृति के द्वार पर
धनिकों का पहरा,
वणिकों के संधि-पत्र
श्रमिक के अँगूठे,
जीवन की नदिया में
प्यास लिए डर रहे।   

Leave a Reply

अलग-अलग पोज़ में अवनीत कौर ने करवाया कातिलाना फोटोशूट टीवी की नागिन सुरभि ज्योति ने डीप नेक ब्लैक ड्रेस में बरपया कहर अनन्या पांडे की इन PHOTOS को देख दीवाने हुए नेटिजेंस उर्फी जावेद के बोल्ड Photoshoot ने फिर मचाया बवाल अनन्या पांडे को पिंक ड्रेस में देख गहराइयों में डूबे फैंस Rashmi Desai ने ट्रेडिशनल लुक की तस्वीरों से नहीं हटेगी किसी की नजर ‘Anupamaa’ ब्लू गाउन में, Rupali Ganguly Pics Farhan-Shibani Dandekar Wedding: शुरू हुई हल्दी सेरेमनी Berlin Film Festival: आलिया ‘गंगूबाई काठियावाड़ी’ स्टाइल में PICS अवनीत कौर प्रिंटेड ड्रेस में, बहुत खूबसूरत लग रही हैं Palak Tiwari ने OPEN ब्लेजर में कराया BOLD फोटोशूट साड़ी के साथ फ्लावर प्रिंटेड ब्लाउज़ में आलिया भट्ट
%d bloggers like this: