खुले उरोज | नमन जोशी

खुले उरोज | नमन जोशी

एक कोहरे की गहराई में,

बैठ गई कोई स्तन खोले,

काँप उठी तब नीली गेंद

कुल्टी, वैश्या, मस्तन बोले।

मचल गया धन्ना का यौवन,

गलीधारी भागते आए,

दहक उठी स्तन की बातें,

स्तन वाली सब चिल्लाए।

टूटे कमल की पंखुड़ी वाले,

नयनों में अश्रु भर बोले,

See also  क्या तो अर्थ | प्रमोद कुमार तिवारी

एक कोहरे की गहराई में,

बैठ गई कोई स्तन खोले।

कोहरे में कोहराम मचा,

भीड़ अति भी जम आई,

यौवन के इस विलख खेल में,

दिखी मातृ सी परछाईं…

स्तन के जादू के दर्शक,

अब दूरी से दूर हुए,

उहा-उहा के रोदन से..

सब कृतज्ञ मजबूर हुए।

थम से गए करुणा गीत,

See also  पतझड़ की शाम | हरिवंशराय बच्चन

उहा-उहा बोले ना डोले,

एक कोहरे की गहराई में,

बैठ गई कोई स्तन खोले।