खुले खेत की हवा सरीखे
मन दौड़े-भागे
फैला दी चिड़िया ने बाँहें
मेड़ों के आगे।

जब-तब निकल पड़ी उड़ान पर
संग फूल को ले
राह खुशबुओं ने दिखलाई
रंग धूप को दे
कुमकुम बिखरा है परबत पर
भरी माँग लागे।

बहुत नाचने लगती है वह
रोम-रोम खिलते
कई पेड़ हों हरसिंगार के
फूलों से भरते
पानी-रेत, शंख-सीपी हैं
सब भीतर जागे।

See also  नीम तरु की छाँव पर | रमेश दत्त गौतम

ऐसा घर कोई बस्ती में
कबसे मिला नहीं
मिटती जहाँ थकान पैर की
कोंपल नाच रही
फटी हुई चूनर को उसने
फिर से कल तागे।