खुले खेत की हवा
खुले खेत की हवा

खुले खेत की हवा सरीखे
मन दौड़े-भागे
फैला दी चिड़िया ने बाँहें
मेड़ों के आगे।

जब-तब निकल पड़ी उड़ान पर
संग फूल को ले
राह खुशबुओं ने दिखलाई
रंग धूप को दे
कुमकुम बिखरा है परबत पर
भरी माँग लागे।

बहुत नाचने लगती है वह
रोम-रोम खिलते
कई पेड़ हों हरसिंगार के
फूलों से भरते
पानी-रेत, शंख-सीपी हैं
सब भीतर जागे।

See also  ओले की गलन

ऐसा घर कोई बस्ती में
कबसे मिला नहीं
मिटती जहाँ थकान पैर की
कोंपल नाच रही
फटी हुई चूनर को उसने
फिर से कल तागे।

Leave a comment

Leave a Reply