कवियों की बस्ती
कवियों की बस्ती

कवि बनने के लिए कविता लिखना काफी नहीं था
अब जरूरी था कि
कवि कुशल प्रबंधक की भाषा में बात करे

कवियों की बस्ती में आ कर हम घबराए
कहाँ तो सोचा था कि अपना मन खोल कर रख देंगे
किसी कवि की हथेली पर
मगर कविगण थे इतने सतर्क कि
हम बस उनका मुँह ताकते रह गए

See also  आकाशदीप | बुद्धिनाथ मिश्र

लगा जैसे उन्होंने कपड़ों से ज्यादा
अपने शब्दों पर इस्तरी कर रखी हो

हमारे कपड़े तो मुड़े-तुड़े थे, बाल बिखरे
और हमारा उच्चारण इतना भ्रष्ट था कि
हम कुछ कहते हुए शरमाए

कहाँ तो हमने सोचा था कि
कवियों की बस्ती में
जरूर सुनी जाएँगी हमारी बातें
हमारी छोटी-छोटी बातें

See also  एक पीली शाम

पर यहाँ भी हमने अपने आपको सबसे पीछे पाया
जैसे हम धकिया कर पीछे कर दिए जाते थे
राशन की लाइन में।

Leave a comment

Leave a Reply