इतने अधिक अपराध, इतने कम प्रायश्चित | विमल चंद्र पांडेय

इतने अधिक अपराध, इतने कम प्रायश्चित | विमल चंद्र पांडेय

दुख लटका है हमारी कमीजों की जेबों से
कई रंगों में, कई डिजाइनों में
वह हम पर आक्रमण करता है अचानक
हम लिख डालते हैं अपने बच निकलने की दास्तान
और जी जाते हैं
मरने की बस एक सूरत होती है
कि ऐन वक्त पर चलती ही नहीं कलम

विरोधाभासों और विरोधियों से घिरे रहे मेरे तीनों काल
विरोधियों में कोई विरोधाभास नहीं था
वह था मित्रों में, प्रेमिकाओं में और संबंधियों में
रात और दिन
काला और सफेद
सुख और प्यार
मौत और माँ
मैं विरोधाभासों में जीने का आदी हो चुका हूँ

See also  रेलगाड़ी

जब तक खोलता हूँ सफर के लिए अपनी कश्ती
सूरज डूबने का वक्त हो चुका होता है
कई कश्तियाँ हैं जो बँधी ही रहती हैं उम्र भर किनारे से
उनकी अधूरी यात्राओं का कब्रिस्तान मेरी आँखों में है

मेरे चाहने से नहीं चलती दुनिया
नहीं होता दिन, रात, मौत, प्यार
जैसी चीजें सिर्फ हवा में हैं
हम नहीं पकड़ पाते उन्हें

जब हम अवसाद में होते हैं
तो सोचते हैं न पकड़ सकने वाली चीजों के बारे में

See also  स्मारक | अलेक्सांद्र कुश्नेर

किसी नियम से बँधी है उसकी हँसी, उसकी नींद
हम तोड़ते हैं नियमों को और पाप करते हुए यह भूल जाते हैं
कि कानूनों के न तोड़े जाने से कहीं जरूरी है उसकी नींद का न तोड़ा जाना
हम कभी कोई प्रायश्चित नहीं करते जबकि दुनिया में रोज होती हैं लाखों मौतें
हर पल टूटते हैं हजारों दिल और सपने
कितनी हँसियाँ खो जाती हैं कितनी ही नींदें अनिद्रा की अतल गहराइयों से चीखने लगती हैं

See also  वह एक दर्पण चाहिए | रमानाथ अवस्थी

इतने सारे लोग हैं हर तरफ और इतने कम कंधे
इतनी सारी आवाजें और उसकी एक भी नहीं
इतनी आँखें घूरती हैं हर रोज मेरी उदासी
मगर एक भी आँख नहीं जो थाम ले मेरे हारे आँसू
इतने अधिक अपराध पर इतने कम प्रायश्चित हैं
कि हर पल डरावनी होती जाती है दुनिया

दुनिया को कविता से अधिक प्रायश्चित की जरूरत है
कवियों हमारा अपराध यह है
कि हमने इसलिए नहीं किए प्रायश्चित
कि हम यह कह कर छूटे
कि हमने तो नहीं किया कोई भी अपराध