गाँव की सीमा पर
अक्सर खड़ा मिलता था
एक बूढ़ा पीपल।
सहकर शीत और ताप
करता था रखवाली
सारे गाँव की।

गाँव में नहीं रहे
अब लोग
उसे छोड़ कर
चले गए सब
फिर भी खड़ा है वो वहीं
उसी तरह

उसकी आँखों में है
इक आस कि
कभी तो फिर…

See also  जी रहे बाबा | अनूप अशेष

इसी आस में
आज भी खड़ा है
गाँव का बूढ़ा पीपल