अद्भुत है कला | मत्स्येंद्र शुक्ल

अद्भुत है कला | मत्स्येंद्र शुक्ल

धिन-धिन ता-धिन ता-धिन
अपूर्व गति बज रहा तबला
सितार-तार कसे ट्रिंग-ट्रिंग
मध्‍यम गति :
नूपुर-ध्‍वनि विचित्र आह्लाद
नदी बहती अतल अथाह
स्‍वर संगम सांगीतिक सुख-धाम
जो आसनासीन सब कला-निपुण
ललाट-दीपित आभा ललाम
अंततः –
बजा मृदंग बाँसुरी-संग जय-घोष
गूँज उठा भवन-परिसर शांत
समवेत बोले सब अद्भुत है कला
रात बीती सुबह अंबर खिला

See also  नन्ही बुलबुल के तराने | आलोक धन्वा