rakshabandhan
rakshabandhan

हिंदू धर्म में कलावा हाथ में बांधना शुभ माना गया है। धार्मिक मान्यताओं के मुताबिक “कलावा” संकल्प, रक्षा और विश्वास का प्रतीक माना गया है।

धार्मिक मान्यताओं के मुताबिक व्यक्ति पर त्रिदेव- ब्रह्मा, विष्णु व महेश एवं त्रिदेवियां- लक्ष्मी, पार्वती व सरस्वती की कलावा बांधने से कृपा बनी रहती है।

इसी कारण हिन्दू धर्म की पौराणिक कहानियों में तमाम “प्रसंग” आए हैं। जैसे इंद्रदेव प्रसंग , राजा बलि और माँ लक्ष्मी , संतोषी माँ सम्बंधित प्रसंग , यम और यमुना सम्बंधित प्रसंग , कृष्ण और द्रौपदी सम्बंधित प्रसंग , यम और यमुना सम्बंधित प्रसंग।

इन सभी पौराणिक कहानियो में रक्षा के लिए हाथों में कलावा बाँधने का प्रसंग है।

यद्धपि भारत में जिस भावना से रक्षाबंधन आज मनाया जाता है वह पैदा हुई मुगल साम्राज्य में। जब सन 1535 के आस पास चित्तौड़ पर गुजरात के सुल्तान बहादुर शाह ने आक्रमण कर दिया।

चित्तौण के राजा राणा संगा की पत्नी रानी कर्णावती को यह लगने लगा कि उनका साम्राज्य गुजरात के सुलतान बहादुर शाह से नहीं बचाया जा सकता तो उन्होंने पहले से ही चित्तौड़ के दुश्मन मुगल बादशाह हुमायूँ को राखी भेजी और एक बहन के नाते मदद माँगी।

मुगलों को खलनायक बनाने के प्रयास में यह इतिहास दबा दिया गया कि मुगल बादशाह हुमायूँ अपनी सेना लेकर कर्णावती की मदद के लिए गुजरात के सुल्तान बहादुर शाह से लड़ने के लिए निकल पड़ा।

पर हुमायूँ के पहुँचने के पहले ही गुजरात के सुल्तान बहादुर शाह ने चित्तौड़ पर विजय प्राप्त कर ली और रानी कर्णावती को जौहर करना पड़ा।

मुगल बादशाह हुमायूँ को जब पता चला कि उनकी मुहबोली बहन रानी कर्णावती ने जौहर कर लिया और वह मृत्यु को प्राप्त हुईं तब उनको बहुत दुख हुआ और उन्होंने अपनी बहन का बदला लेने के लिए चित्तौड़ पर आक्रमण करके सुल्तान बहादुर शाह को परास्त किया और हुमायूं को विजय मिली तथा उन्होंने चित्तौण का पूरा शासन रानी कर्णवती के बेटे विक्रमजीत सिंह को सौंप दिया।

इतिहास से स्पष्ट है कि तब सांप्रदायिकता नहीं थी , वर्ना एक मुसलमान राजा हुमायूँ , एक हिन्दू रानी कर्णावती के लिए एक मुसलमान राजा सुल्तान बहादुर शाह से क्युँ लड़ता ?

ध्यान दीजिए कि महाराणाप्रताप जिनका आज सांप्रदायिकरण किया जाता है वह इन्हीं रानी कर्णावती के पौत्र अर्थात विक्रमादित्य सिंह के पुत्र थे जिनको हुमायूँ ने चित्तौण का राजपाट वापस सौंपा।

भारत में रक्षाबंधन की शुरुआत पारंपरिक रूप से इसके बाद ही शूरू हुई। मगर इसके भाव को बदलकर इसे पूरी तरह धार्मिक बना दिया गया , सही भाव तो तब होता जब हिन्दू बहनें अपने मुसलमान भाईयों को राखी बाँधती।

आपका गानों की दुनिया में स्वागत है. ये Website उन लोगो के लिए है जो गानों से प्यार करते है और हर Songs के Lyrics की गहराईयो को समझते है.

This is a place to get the latest and evergreen popular Hit songs, lyrics were written in Hindi font from filmy and non-filmy hit songs.

HindiAdda.com is now on Facebook, Youtube, and Twitter. Follow us and Stay Updated

Just Added. You May like it

मीराबाई चानू की टोक्यो ओलंपिक जीत की नकल करता बच्चा; ऑनलाइन दिल पिघला देता है

भारोत्तोलक मीराबाई चानू ने भारत को गौरवान्वित किया टोक्यो ओलंपिक में रजत पदक, खेलों में देश का पहला पदक मणिपुर की एथलीट ने न केवल ऑनलाइन ख्याति अर्जित की, बल्कि उसने देश भर की हजारों लड़कियों को भी प्रेरित किया। अब सोशल मीडिया पर चानू की जीत के पल की नकल करती एक छोटी बच्ची […]

आंध्र के व्यक्ति ने 5वीं पुण्यतिथि पर कुत्ते की कांस्य प्रतिमा लगाई

आंध्र प्रदेश के रहने वाले एक व्यक्ति ने अपने मृत कुत्ते के लिए प्यार का इजहार करने में और आगे बढ़कर उसकी पुण्यतिथि पर कुत्ते की एक कांस्य प्रतिमा स्थापित की। आंध्र प्रदेश के कृष्णा जिले के सुनकारा ज्ञान प्रकाश राव ने अपने कुत्ते की 5वीं पुण्यतिथि के उपलक्ष्य में एक कांस्य प्रतिमा लगाई। See […]

सब्जी विक्रेता की गाढ़ी कमाई को चूहों ने कुतर दिया, तेलंगाना के मंत्री ने की मदद की पेशकश

एक सब्जी विक्रेता, जो अपने पेट की सर्जरी के लिए बचाए गए पैसे को चूहों द्वारा चबाने के बाद दिल टूट गया था, को तेलंगाना के एक मंत्री से मदद मिली है। महबूबाबाद जिले के वेमुनूर गाँव के निवासी रेड्या नाइक ने चार साल पहले ट्यूमर का पता चलने के बाद अपने इलाज के लिए […]

जया पार्वती व्रत | Jaya Parvati Vrat Katha, जानिये पूजा विधि और शुभ मुहूर्त

यह व्रत 5 दिनों शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी से शुरू होकर सावन महीने के कृष्ण पक्ष की तृतीया तक चलती है। इस बार 22 जुलाई से 26 जुलाई तक चलेगा व्रत। इस व्रत को अविवाहित महिलाएं पति तथा विवाहित महिलाएं पति के दीर्घायु के लिए रखती है। आषाढ़ महीने के शुक्लपक्ष की त्रयोदशी तिथि पर […]

दुनिया भर के लोग नाश्ते में क्या खाते हैं

दुनिया भर में, ‘नाश्ता’ एक नए दिन की शुरुआत से जुड़ी एक महत्वपूर्ण सांस्कृतिक परंपरा है। क्योंकि ‘नाश्ता’ इतना महत्वपूर्ण भोजन है, कई देशों ने प्रत्येक दिन की शुरुआत करने के लिए अपने स्वयं के अनूठे व्यंजन विकसित किए हैं। अमेरिका में नाश्ता: अंडे, अंग्रेजी मफिन, टोस्ट, अनाज, चाय, कॉफी, दूध, बेकन या सॉसेज, हैश […]

आषाढ़ी एकादशी महत्व, स्टेटस, – Ashadhi Ekadashi

आषाढ़ी एकादशी को देवशयनी एकादशी, हरिशयनी एकादशी, शयनी एकादशी आदि नामों से जाना जाता है। आषाढ़ी एकादशी का व्रत बहुत उत्तम माना जाता है, इस पवित्र दिन से भगवान विष्णु क्षीर समुद्र में चार माह तक शयन करते हैं। आषाढ़ मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को आषाढ़ी एकादशी कहा जाता है। हिन्दू धर्म में […]

Leave a comment

Leave a Reply